पुलिस स्मृति दिवस पर पुलिस के अमर शहीद जवानों को पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा ने श्रद्धांजलि देकर किया नमन

23 Views
  • डयुटि के दौरान अपनी जान की कुर्बानी देने वाले पुलिसकर्मियों की याद में हर साल पुलिस शहीदी स्मृति दिवस 21 अक्तूबर को भारत के सभी राज्यों में मनाया जाता है !
  • पुलिस कमिश्नर विकास कुमार अरोडा ने शहीदों को श्रद्धा सुमन श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि पुलिस शहीदो का पुलिस के शूरवीरो ने अपनी डयुटि के दौरान कर्तव्य पालन करते हुए देश के लिए अपने प्राणो का बलिदान दिया है !

फरीदाबाद : 21 अक्टूबर को प्रतिवर्ष पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है। 21 अक्तूबर 1959 को सीआरपीएफ की तीसरी बटालियन की एक कंपनी को लददाख में हॉट स्प्रींग एरिया में तैनात थी। भारत – तिब्बत सीमा पर 21 जवानो की एक टुकडी गश्त कर रही थी तब ही चीनी फौज के एक बडे दस्ते ने घात लगाकर हमारे जवानो पर अटैक कर दिया। हमारे 21 जवानों ने चीनी आक्रमण करने वालों का डटकर मुकाबला किया और दुश्मनो को मार गिराया। लेकिन हमारे 10 शूरवीर जवान देश की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए। ये देश के लिए गौरव की बात थी। तभी से इन बहादुर जवानों के बलिदान को पुलिस शहीदी स्मृति दिवस के रुप मे मनाया जाता है।

इसी क्रम में आज पुलिस लाईन सेक्टर 30 में पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर भारत देश के विभिन्न राज्यों में गत वर्ष शहीद हुए 264 पुलिसकर्मियों की याद में श्रृद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया। पुलिस स्मृति दिवस पर जवानों द्वारा शहीदों की याद मे सलामी दी गई, पुलिस कमिश्नर विकास कुमार अरोडा सहित डीसीपी मुख्यालय नीतीश कुमार अग्रवाल, डीसीपी क्राइम मुकेश मल्होत्रा, डीसीपी बल्लबगढ़ कुशल सिंह, डीसीपी एनआईटी नरेंद्र कादियान, एसीपी हेड क्वार्टर अभिमन्यु गोयत सहित अन्य उच्च अधिकारी एवम् पुलिसकर्मियों ने अमर जवान शहीद समारक पर शहीदों को पुष्प श्रद्धा व सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

शहीद हुए पुलिसकर्मियों में शामिल फरीदाबाद पुलिस से सिपाही संदीप निवासी गांव कथुरा सोनीपत ने बदमाशों से लोहा लेते हुए 30 सितम्बर 2021 को अपने प्राणों का बलिदान दिया था।

1984 में सोनीपत के गांव कथुरा में श्री कृष्ण के घर जन्मे सिपाही संदीप वर्ष 2013 से पुलिस विभाग में कार्यरत थे। संदीप के परिवार में उनके बुजुर्ग माता-पिता ओर उनकी पत्नी है। स्वर्गीय सन्दीप के 3 बच्चे हैं जिसमें 1 बेटा और 2 बेटियां हैं। वह जनवरी 2020 से क्राइम ब्रांच 30 में अपनी सेवाएं दे रहे थे। इससे पहले वह क्राइम ब्रांच 56 में तैनात थे। 28 सितंबर 2021 को फरीदाबाद के मुजेसर थाना एरिया में तीन बदमाशों ने हथियारों के बल पर दुकानदार से लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था। इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच सेक्टर 30 की टीम द्वारा की जा रही थी जिसमे क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि लूट के आरोपी चार बदमाश हरिद्वार में छिपे हुए हैं जिसके आधार पर क्राइम ब्रांच की टीम बदमाशों की धरपकड़ करने के लिए हरिद्वार पहुंची थी। क्राइम ब्रांच टीम द्वारा इन बदमाशों को काबू करने के प्रयास में एक बदमाश ने पुलिस पर फायर कर दिया जिसमें गोली सिपाही संदीप के सिर में लगी और वह गंभीर रूप से घायल हो गए। इस मुठभेड़ में पुलिस द्वारा की गई जवाबी कार्रवाई में उक्त बदमाश के हाथ में भी गोली लगी। चारों बदमाशों को मौके से काबू किया गया तथा घायल सिपाही संदीप को नजदीकी अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहां 30 सितम्बर को इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। स्वर्गीय सन्दीप का पूरे राजकीय सम्मान के साथ गाँव कथुरा में अंतिम संस्कार किया गया।

पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा ने शहीद जवान संदीप की वीरगति पर संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि संदीप ने फरीदाबाद की जनता की सुरक्षा में अपने कर्तव्य का निर्वाहन करते हुए अपनी जान पर खेल कर बहादुरी का प्रदर्शन करते हुए शहीद हो गए। उन्हें उनके परिवार के प्रति पूरी संवेदना है। वह हर एक पुलिसकर्मी को अपने परिवार का सदस्य समझते हैं और उन्हें अपने जवान को खोने का बहुत दुख है।

इसके अतिरिक्त इससे पूर्व में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के परिवार जो फरीदाबाद में रह रहे हैं उनके परिजनों को भी सम्मानित किया गया। इसमें फरीदाबाद में रह रहे राजेश मेहता पुत्र शहीद सहायक उप निरीक्ष योगराज तथा सुनीता पत्नी शहीद सिपाही सत्यवीर सिंह को पुलिस कमिश्नर विकास कुमार अरोडा द्वारा सम्मानित किया गया तथा शहिदों के परिवारों की सुख-समृधि की कामना की गई।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *