पुलिस झंडा दिवस कार्यक्रम के अंतर्गत शहीदों की याद में पुलिस लाइन व साइबर सेल की टीम के बीच हुआ क्रिकेट मैच, पुलिस लाइन की टीम रही विजय

33 Views
  • 12 ओवर का मैच था, सब इंस्पेक्टर बलजीत के पुत्र यस ने बनाए 52 रन, जिसे मैन ऑफ द मैच चूना गया।बेस्ट बॉलर रिटायर्ड इंस्पेक्टर सुखबीर गुलिया का पुत्र अजय गुलिया रहा जिसने 3 ओवर में 11 रन देकर तीन विकेट लिए। फोटोग्राफर गजेंद्र को बेस्ट फिल्डर चुना गया

फरीदाबाद : पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा के दिशा निर्देशों के तहत झंडा दिवस के अवसर पर फरीदाबाद पुलिस लाइन सेक्टर 30 में एसीपी क्राइम सुरेंद्र श्योराण व वेलफेयर इंचार्ज नवीन कुमार ने अपनी मौजूदगी में पुलिस लाइन व साइबर सेल पुलिस टीम के बीच क्रिकेट मैच कराया।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गृह मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार “पुलिस झंडा दिवस” फरीदाबाद पुलिस द्वारा दिनांक 21 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहे हैैं। जिसमें प्रतिदिन विभिन्न एक्टिविटी जैसे कि साइबर जागरूक, शहीद जवानों को याद करना, खेल खिलाकर, खेल की भावना को प्रोत्साहित करना, इत्यादि इसी के चलते आज पुलिस लाइन सेक्टर 30 में एसीपी क्राइम की मौजूदगी में पुलिस लाइन सेक्टर 30 और साइबर सेल की टीम के बीच एक क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया है जिसमें पुलिस लाइन की टीम ने 4 खोकर 113 रन बनाए।

साइबर सेल की टीम पीछा करते हुए 101 रन बनाकर आल आऊट हुई जिसे हार का मुंह देखना पड़ा। दोनों टीमों ने बहुत अच्छा खेला स्वस्थय खेल भावना का परिचय दिया। पुलिस लाइन की टीम की तरफ से बल्लेबाज यस ने 52 रन का सर्वाधिक स्कोर बनाया जिसके लिए उसे मैन ऑफ द मैच दिया गया तथा साथ ही जीतने वाली टीम को इनाम दिए गए।

एसीपी क्राइम ब्रांच ने इस मौके पर बताया कि खेल आपके शरीर के साथ-साथ आपके दिमाग को भी तंदुरुस्त रखता है। आजकल की नौजवान पीढ़ी स्टेडियम में खेलने की बजाए फोन में ही गेम्स खेलते रहते हैं जिसकी वजह से उनमें आलस्य बढ़ता है और ग्राउंड से दूरियां बढ़ती जाती है। युवा शारीरिक एक्सरसाइज से लगातार दूर होते जा रहे हैं और फोन चलाने में इतना व्यस्त हो चुके हैं कि उन्हें इस बात का ध्यान ही नहीं है कि उन्हें भविष्य में इसके कितने गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। एक समय सीमा में फोन का उपयोग करना फायदेमंद हो सकता है परंतु आजकल युवाओं का ज्यादातर समय गेम्स, व्हाट्सएप, फेसबुक और यूट्यूब पर बीत जाता है। इसकी वजह से उनकी आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है तथा फोन का ज्यादा उपयोग आपके दिमाग द्वारा सोचने की क्षमता को भी क्षीण देता है।

उन्होंने कहा कि युवाओं को ग्राउंड में आकर व्यायाम करना चाहिए। एक्सरसाइज करें जिसकी वजह से उनका शरीर तंदुरुस्त रहे और उनका दिमाग में अच्छी दिशा में कार्य करता रहे। स्टेडियम में व्यायाम करने के साथ-साथ, दूसरे लोगों के साथ मिलने से युवाओं का सामाजिक जुड़ाव भी बढ़ जाता है जिससे वह समाज के विभिन्न वर्गों से रूबरू होकर समाज के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जिससे उन्हें दुनियादारी को समझने में आसानी होती है। बुरे कामों से बच सकते हैं!

Spread the love