चार दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात

454 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 17 सितंबर। गुरुग्राम के जैकबपुरा मौहल्ले की कृष्ण मंदिर वाली गली में नटराज फोटो स्टूडियो के सामने पिछले काफी समय से कूड़े-कर्कट का ढ़ेर लगा रहता है और कोई भी सरकारी अधिकारी इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा! इन दिनों गुरुग्राम में विधान सभा चुनाव के लिए टिकट चाहने वालों की लंबी कतारें लगी होने के कारण इन तथाकथित नेताओं व सरकारी अफसरों को कूड़े-कर्कट के ढ़ेर साफ करवाने की फुरसत ही नहीं है!

कुछ तथाकथित नेता इस वक्त चुनावी दौर के चलते अपनी फोटो खिंचवाने के चक्कर में अपने हाथों में झाड़ू पकडक़र नकली तौर पर सफाई करने का ड्रामा करते हैं! अब गुरुग्राम की जनता की तरफ से सवाल यह उठ रहा है कि सफाई के नाम पर कोरा ड्रामा करने वाले नेता व अफसर इस कहावत को साबित कर रहें हैं कि ‘चार दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात’ और जनता की तरफ से यह भी सवाल है कि गुरुग्राम के इस उपरोक्त मौहल्ले में स्थाई रूप से सफाई कर्मचारी नियुक्त क्यों नहीं किए गए? यह सरकार की तरफ से पूर्णत: लापरवाही मानी जा रही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

5 Replies to “चार दिन की चांदनी फिर अंधेरी रात”

  1. I simply wanted to thank you very much once more. I do not know what I would have tried without these tactics shared by you regarding that subject matter. It was actually an absolute intimidating problem in my position, nevertheless taking a look at this specialized tactic you solved the issue took me to weep with happiness. Now i’m thankful for your support and thus sincerely hope you really know what an amazing job you have been putting in training the mediocre ones via your webblog. Most probably you haven’t met any of us.

  2. My wife and i were very thrilled when Raymond managed to round up his web research with the precious recommendations he was given while using the weblog. It is now and again perplexing to simply possibly be releasing tricks which usually the rest might have been trying to sell. We really understand we now have you to thank for this. Those illustrations you made, the straightforward website navigation, the relationships your site make it possible to promote – it is mostly wonderful, and it is making our son in addition to us understand this theme is pleasurable, which is certainly truly serious. Thanks for the whole thing!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *