एडीसी अपराजिता ने एप ऑनलाइन कक्षाओं, स्मार्ट साला ऐप के जरिये बच्चों को पढ़ाना और उनके शब्दकोश में वृद्धि बारे की समीक्षा बैठक

42 Views
  • एडीसी ने अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश:- कहा सरकार की आन लाईन शिक्षा प्रणाली प्लेट फार्म की गाइड लाइन अनुसार तकनीकी रूप से प्ले स्कूलों और सरकारी स्कूलों में पैरामीटर के अनुरूप हो बेहतर क्रियान्वयन !

फरीदाबाद, 18 अक्तूबर : एडीसी अपराजिता ने कहा कि सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार आजादी के अमृत महोत्सव के तत्वावधान में जिला में सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन कक्षाओं, स्मार्ट साला ऐप के माध्यम से बच्चों को पढ़ाना और उनके शब्दकोश में वृद्धि बारे समीक्षा बैठक की। एडीसी अपराजिता गत सायं लघु सचिवालय के बैठक कक्ष में सरकार की आनॅ लाइन शिक्षा प्लेट फार्म प्रणाली के हिदायतों के अनुसार तकनीकी रूप से प्ले स्कूलों और सरकारी स्कूलों में पैरामीटर के अनुरूप बेहतर क्रियान्वयन करने की समीक्षा कर रही थी। उन्होंने अधिकारियों को दिए दिशा निर्दश देते कहा कि अधिकारी आपसी तालमेल करके जिला फरीदाबाद के प्ले स्कूलों और सरकारी स्कूलों में आनॅ लाइन शिक्षा प्रणाली प्लेट फार्म का बेहतर क्रियान्वयन करना सुनिश्चित करें।

एडीसी अपराजिता ने कहा कि छुट्टियों के दौरान बच्चों को व्हाट्सएप ग्रुप पर होमवर्क भेजना, रीडिंग कैंपेन को बच्चों तक पहुंचाना,टैबलेट से कक्षा दसवीं एवम् बारहवीं की ऑनलाइन पढ़ाई करवाना शामिल हैं। उन्होंने आगे बताया कि डिजिटल बोर्ड को अभिभावकों को दिखाना,सीटीएमएम/PTM पर कक्षा कक्ष को चार्ट पेपर से डाक्टरेट/ DECORATE करना शामिल हैं।अभिभावकों के स्वागत के लिए विद्यालय प्रांगण की साफ सफाई का ध्यान रखना, शोचालय की साफ सफाई एवम पीने के पानी की उत्तम व्यवस्था करना शामिल हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग की प्ले स्कूलों की आन लाईन आधुनिक शिक्षा प्रणाली की भी विस्तार पूर्वक जानकारी ली।

एडीसी अपराजिता ने कहा कि सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार रोजाना 2 घंटे उड़ान कार्यक्रम से बच्चों को पढ़ाना, एफएलएन के माध्यम से बच्चों को खेल खेल में पढ़ाई करवाना, कार्यक्रम सुपर 100 के बारे में बच्चों को बताना, बोर्ड कक्षाओं की एक्स्ट्रा क्लास और मासिक परीक्षा से अवगत करवाना सहित तमाम पहलुओं पर बारिकी से समीक्षा की। इसके अलावा अभिभावकों को बच्चों को दिए जाने वाले टेबलेट के बारे, अवसर दीक्षा एप ऑन लाइन कक्षाओं के बारे में बताना, स्मार्ट साला ऐप के माध्यम से बच्चों को कहानी पढ़ाना और उनके शब्दकोश में वृद्धि करना सहित अन्य पहलुओं पर सम्बंधित विभागों के अधिकारियो से विस्तार पूर्वक जानकारी ली। उन्होंने स्कूलों में कालेजों के बीईएड करने वाले प्रशिक्षणाधीन भावी शिक्षको से कार्य करवाने बारे भी विस्तार पूर्वक सुझाव साँझा किए गए।

आनॅ लाइन शिक्षा प्रणाली प्लेट फार्म के प्रोजेक्ट आफिसर अतुल सहगल ने बताया कि ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली प्लेट फार्म विद्यार्थियों को यूट्यूब चैनल के जरिए दी जा रही हैं। आनॅ लाइन शिक्षा में फरीदाबाद को नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। ऑनलाइन शिक्षा प्लेटफार्म के बेहतर क्रियान्वयन के लिए 2000 वीडियो बनाए गए हैं। बच्चों को आनॅ लाइन वही वीडियो दी दिए जा रहे हैं। अतुल सहगल ने आगे बताया कि स्मार्ट क्लासेज कैसे लेनी है। एनसीआरटी के हिदायतो के अनुसार फिजिक्स और कोड कौन-कौन से लगाए गए हैं बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि नई शिक्षा नीति के बेहतर क्रियान्वयन के लिए 4000 लेक्चर भी तैयार किए गए हैं। टैब के जरिए शिक्षा के बेहतर क्रियान्वयन पेन ड्राइव और हार्ड डिस्क के जरिए भी कार्य किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि एनसीआरटी की हिदायतो अनुसार मैथ, साइंस और ज्योग्राफी के टॉपिक तैयार किए गए हैं। स्मार्ट क्लासेज के जरिए यह कार्य कराया जा रहा है। अतुल सहगल ने गुरुशाला राष्ट्रीय शिक्षा चेंजमेकर चैनल 16400 बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह सरकार की एक सकारात्मक पहल है और इसके बेहतर साकारत्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं।

समीक्षा बैठक में एसडीएम बल्लबगढ़ त्रिलोक चंद, एसडीएम बङखल पंकज सेतिया, शिक्षा और महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारी व आन लाइन शिक्षा प्लेट फार्म से जुड़े प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *