सिपाही मनोज के बेटे सक्षम ने आंध्र प्रदेश में आयोजित ओपन नेशनल तीरंदाजी में रजत पदक जीतकर फरीदाबाद पुलिस सहित पूरे जिले का नाम किया रोशन

88 Views

फरीदाबाद : पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि डी. ए. वी. पुलिस पब्लिक स्कूल फरीदाबाद सेक्टर 30 के कक्षा आठवीं के छात्र सक्षम अहलावत ने ओपन नेशनल तीरंदाजी में रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। 26 से 30 मई 2022 को आंध्र प्रदेश में आयोजित ओपन नेशनल तीरंदाजी अंडर 14 में सक्षम अहलावत ने 50 मीटर रिकवर राउंड में रजत पदक जीतकर विद्यालय के साथ-साथ अपने माता पिता का नाम रोशन किया है।

दरअसल इस जीत के पीछे की मेहनत सक्षम के दादाजी श्री सुभाष अहलावत की है जो आईटीबीपी में सूबेदार के पद से रिटायर्ड हैं। सक्षम के दादाजी ही उसे कोचिंग के लिए लेकर जाते और उसका ख्याल रखते थे। सक्षम पानीपत में पढ़ाई करता था और पिछले 2 साल से फरीदाबाद में डीएवी पुलिस पब्लिक स्कूल में पढ़ रहा था।

सक्षम के पिता सिपाही मनोज क्राइम ब्रांच सेक्टर 30 में कार्यरत हैं जो अपने उत्कृष्ट कार्यों के लिए पुलिस आयुक्त से 5-6 बार प्रशंसा पत्र प्राप्त कर चुके हैं।

प्रधानाचार्या हेमा अरोड़ा द्वारा सक्षम अहलावत के अंडर 14 नेशनल तीरंदाजी में चयनित होने पर ही उसे प्रोत्साहित करने हेतु सराहनीय प्रमाणपत्र दिया गया। छात्र का मनोबल बढ़ाने हेतु सक्षम अहलावत के चित्र सहित उसके नाम के बैनर जगह जगह पर लगवाए गए। प्रधानाचार्या ने सक्षम को रजत पदक जीतने पर बधाई संदेश दिया और कहा कि स्कूल वापसी पर उसका जोरदार स्वागत किया जाएगा।

उन्होंने संदेश देते हुए यह भी कहा कि विद्यालय के अन्य छात्रों के लिए वह एक प्रेरणा स्त्रोत है। प्रधानचार्या का कहना है कि खेलों से छात्रों का मानसिक व शारीरिक विकास होता है। इसलिए विद्यालय परिसर में सुबह विभिन्न खेलों का प्रशिक्षण प्रशिक्षित शिक्षकों के द्वारा निशुल्क दिया जाता है ताकि ज्यादा से ज्यादा छात्र इसका लाभ उठा सकें! खेल कूद की गतिविधियों को हमेशा विद्यालय में इसी तरह से आगे भी प्रोत्साहित किया जाएगा।

पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने छात्र को बधाई देते हुए अपने माता पिता, फरीदाबाद पुलिस, डीएवी पुलिस पब्लिक स्कूल सहित पूरे जिले का नाम रोशन करने पर उसके खेल की प्रशंसा की तथा खेल में ओर आगे बढ़कर नए मुकाम हासिल करने की शुभकामनाएं दी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.