सरदार पटेल से प्रेरित है जम्मू-कश्मीर पर लिया गया निर्णय : प्रधानमंत्री

159 Views

केवडिया, 17 सितंबर ! सरदार पटेल की दूरदृष्टि की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि भाजपा सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर पर लिया गया निर्णय भारत के पूर्व गृह मंत्री से “प्रेरित” है। मोदी ने एक सार्वजनिक सभा में कहा कि जम्मू-कश्मीर पर केंद्र सरकार का निर्णय सरदार पटेल से प्रेरित है और ये दशकों पुरानी समस्या का समाधान पाने की एक कोशिश है। मोदी मंगलवार को 69 वर्ष के हो गए। सरकार ने पिछले महीने 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म कर दिया था, जिनके आधार पर राज्य को विशेष दर्जा मिला था। इसके साथ ही राज्य को दो हिस्सों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट कर उन्हें केंद्र शासित राज्य बनाने का निर्णय भी लिया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हैदराबाद मुक्ति दिवस सरदार पटेल की दूरदृष्टि का परिणाम है। हैदराबाद मुक्ति दिवस हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है । इसी दिन 1948 में हैदराबाद रियासत का भारत में विलय हुआ था। तत्कालीन गृह मंत्री पटेल ने 1947 में हैदराबाद रियासत के अंतिम निजाम उस्मान अली खान आसफ जाह सातवें से भारत में शामिल होने का अनुरोध किया था, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। इसके बाद सितंबर 1948 में हैदराबाद “पुलिस एक्शन” शुरु हुआ, जिसका कूट नाम ऑपरेशन पोलो था। इसके बाद हैदराबाद का भारत में विलय हो गया। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें खुशी है कि ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ को देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि 133 साल पुराने ‘स्टेच्यु ऑफ लिबर्टी’ को देखने प्रतिदिन 10,000 लोग जाते हैं, लेकिन ‘स्टेच्यु ऑफ यूनिटी’ का लोकार्पण हुए सिर्फ 11 महीने ही हुए हैं और यहां 8,500 लोग प्रतिदिन आते हैं। उन्होंने कहा कि सरदार सरोवर परियोजना गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान की जरूरतों को पूरा कर रही है और वह सरदार सरोवर परियोजना को सफल बनाने के लिए काम करने वाले लाखों लोगों का आभार व्यक्त करते हैं। बड़ी परियोजनाओं से पर्यावरण पर होने वाले असर पर मोदी ने कहा, “हमारी संस्कृति में हमेशा माना गया है कि पर्यावरण की रक्षा करते हुए भी विकास हो सकता है। प्रकृति हमारे लिए आराध्य है, प्रकृति हमारा आभूषण है।” 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *