शील मधुर ने देशवासियों को स्वस्थ बनाने के लिए तुलसी के हजारों पौधे बांटे

344 Views

फरीदाबाद 18 सितम्बर। सादर इंडिया मंच के चैयरमेन शील मधुर पूर्व डीजीपी ने ‘रोजगार एवं पर्यावरण संरक्षण जागरूकता’ मिशन के तहत फरीदाबाद के लेजर वेली पार्क डबुआ कालोनी में पौधा वितरण समारोह का आयोजन किया। जहां पर 2100 से अधिक लोगों को मुफ्त में तुलसी के पौधे दिए गए। ये कार्यक्रम पूरे दिन चला। इसके साथ ही पार्क में पीपल का पेड़ लगाया गया और उसके महत्व के बारे में लोगों को बताया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में तुलसी को पूजनीय माना जाता है। इस पौधे का धार्मिक महत्व होने के साथ-साथ तुलसी औषधीय गुणों से भी भरपूर है। आयुर्वेद में तो तुलसी को उसके औषधीय गुणों के कारण विशेष महत्व दिया गया है। तुलसी ऐसी औषधि है जो ज्यादातर बीमारियों में काम आती है। इसका उपयोग सर्दी-जुकाम, खांसी, दंत रोग और श्वास संबंधी रोग के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। शील मधुर ने कहा कि तुलसी का पौधा बहुत ही छोटा होता है लेकिन इसके औषधिय गुण बहुत बड़े हैं। ये बहुत ही सस्ता है और इसे बहुत ही थोड़ी जगह में कोई भी लगा सकता है। इसे गरीब-अमीर छोटे मकान में रहने वाला और फ्लैट में रहने वाले सभी लोग लगा सकते हैं। तुलसी के गुणों को देखते हुए आम लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से इस पौधे के वितरण समारोह का आयोजन किया है। उनका मिशन है की हर घर में तुलसी का पौधा पहुंचे इसके लिए आम लोगों को जागरूक करना बहुत जरुरी है।

उन्होंने कहा कि आज हमें फिर से अपनी पुरानी औषधिय गुणों से भरपूर पेड़-पौधों को पहचानना होगा और उन्हें अधिक-से-अधिक लगा कर खुद को और देश को स्वस्थ बनाना होगा। तुलसी के साथ ही श्री मधुर ने हल्दी के भी औषधिय गुण को बताते हुए कहा कि हल्दी में सबसे अधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है यदि इसे चुटकी भर रोज ली जाए तो बहुत सी बिमारियों से हम बच सकते हैं। इसके साथ ही उन्होंने लेजर वेली पार्क में पीपल का पौधा लगाया। उन्होंने कहा कि पीपल का पेड़ 24 घंटे ऑक्सीजन देता है इस लिए हमें ऐसे पेड़ पौधे अधिक से अधिक लगाने चाहिए ताकि आज के प्रदूषण से हमें मुक्ति मिल सकें और भारत स्वस्थ बन सके ।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Replies to “शील मधुर ने देशवासियों को स्वस्थ बनाने के लिए तुलसी के हजारों पौधे बांटे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *