वैष्णोदेवी मंदिर फरीदाबाद ने कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए मुख्यमंत्री को भेजी ढाई लाख रुपए की राशि

380 Views

फरीदाबाद। कोरोना पीडि़तों को लेकर जहां एक ओर राज्य सरकार प्रभावित लोगों की मदद कर रही है, वहीं दूसरी ओर सरकार के खजाने में मदद पहुंचाने वालों की भी कमी नहीं है। इसी कड़ी में श्री महारानी वैष्णोदेवी मंदिर फरीदाबाद ने मुख्यमंत्री कोरोना रिलिफ फंड में ढाई लाख रुपए की राशि भेंट की है। मंदिर संस्थान के प्रधान जगदीश भाटिया ने अपनी कार्यकारिणी के सहयोग से यह राशि हरियाणा सरकार को (आरटीजीएस ) चैक के माध्यम से भेजी है। यह राशि सीधे मुख्यमंत्री रिलिफ फंड में ट्रांसर्फर की गई है। श्री भाटिया ने कहा कि ऐसी विकट स्थिति में देश के प्रत्येक नागरिक का दायित्व है कि वह यथासंभव सरकार व पीडि़तों की सहायता के लिए आगे आए।

उन्होंने कहा कि वैष्णोदेवी मंदिर संस्थान प्रत्येक समय सरकार व आम आदमी की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है। उन्होंने कहा कि इस समय पूरा विश्व भयंकर संकट व महामारी से जूझ रहा है। हजारों लोग अकाल मौत का शिकार हो गए हैं। केंद्र की मोदी सरकार व हरियाणा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भरपूर प्रयास करके इस महामारी से अभी तक अपने लोगों को बचाया हुआ है। इसके तहत ही देश भर में लॉक डाऊन घोषित किया गया है। हालांकि लॉक डाऊन से जहां कोरोना बीमारी से बचाव में मदद मिल रही है, वहीं आम आदमी के सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। खासतौर पर मजदूर वर्ग के लिए यह स्थिति बेहद ही संकट पूर्ण है। ऐसे में मोदी व मनोहर लाल सरकार ने लोगों तक मदद पहुंचाने के लिए अपने खजाने खोल दिए हैं। मगर ऐसे हालातों में देश व प्रदेश की सभी संस्था, औद्योगिक घराने व प्रमुख लोगों को भी मदद के लिए आगे आना होगा। तभी इस महामारी को हराया जा सकता है। गरीब व मजदूर लोगों की मदद के लिए आर्थिक सहायता पहुंचाना अति आवश्यक है। श्री भाटिया ने लोगों से अपील की है कि वह ऐसी स्थिति में सरकार के साथ साथ अपने आसपास के लोगों की भी भरपूर मदद करें, ताकि इस महामारी पर जीत पाई जा सके।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Replies to “वैष्णोदेवी मंदिर फरीदाबाद ने कोरोना पीडि़तों की मदद के लिए मुख्यमंत्री को भेजी ढाई लाख रुपए की राशि”

  1. Pingback: OxyContin
  2. Pingback: elo job

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *