माँ को कफन भी नहीं दे सके आरएसएस के लोग !

689 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 17 जनवरी। हमारे हिंदू धर्म में गाय को माँ का दर्जा दिया गया है! देश की आजादी से ले कर अब तक गाय की रक्षा के लिए कई आंदोलन हुए और गाय को काटना या मारना और उस का मांस बेचना व खाना देश भर में वर्जित किया गया! आरएसएस की कट्टर हिंदूवादी विचारधारा के कारण आरएसएस के सभी संगठनों ने गाय के नाम पर कई आंदोलन किये और एक गौ हत्या विरोधी आंदोलन में इस खबर के लेखक मदन लाहौरिया के पिता स्व.जुगल किशोर लाहौरिया ने काफी सक्रिय रूप से भाग लिया! देश की आजादी के बाद काफी सालों तक गाय के नाम पर कभी भी राजनीति नहीं की जाती थी! लोग गाय को पाल कर गाय की सेवा करते थे परंतु असली गाय सेवक होने के बावजूद कभी भी अपने नाम के आगे गौ भक्त नहीं लिखते थे! लेखक मदन लाहौरिया ने स्वयं 10 वर्ष तक गाय पाल कर गाय की सेवा की है और उन के पिता ने लगभग 30 वर्षों तक गाय पाल कर गाय की सेवा की है! पिछले कुछ सालों से आरएसएस के कई संगठन गाय के नाम पर गंदी राजनीति करने में लगे हुए हैं! गौशालाओं का सुधार करने की बजाय गायों के बारे में मोदी सरकार के तहत गलत नीतियां लागू कर दी गई हैं! जिसके कारण गायों की स्थिति में सुधार होने की बजाय गायों की हालत बदतर होती जा रही है! इन्हीं गलत नीतियों के कारण हरियाणा के हिसार में स्थित गौ अभ्यारण में 529 गायों की भूख प्यास व ठंड के कारण मृत्यु हुई!

हिसार के गौ अभ्यारण में भूखी प्यासी व अत्याधिक ठंड के कारण मरने वाली 529 गायों की दुर्गति की इस खबर के साथ दी गई तीनों फोटो ने भाजपा सरकार की पूरी तरह से पोल खोल कर रख दी है! इस गौ अभ्यारण में इतनी भारी संख्या में मृत गायों को खुले में ही सडऩे के लिए छोड़ दिया गया और ढंढूर गावं के पास इन गायों के शरीर से बुरी तरह से खाल उतार कर हड्डियां व मांस निकाला जा रहा है! हिंदू धर्म की परम् पूजनीय गौ माता की इस प्रकार की दुर्गति पर हरियाणा के मुख्यमंत्री को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए था! यह एक सुनियोजित ढंग से की गई 500 से 700 गायों की जघन्य हत्या का मामला है! इतनी बड़ी संख्या में गौ हत्या को देखते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री यदि असली हिंदू हैं तो तुरंत प्रभाव से मुख्यमंत्री पद व विधायक पद से इस्तीफा दे कर प्रदेश की जनता के बीच में आ कर इस गौ हत्या की जिम्मेवारी लेते हुए माफी मांगें!

जरा दिल को मजबूत कर के इन तीनों फोटो को देखेंगे तो आपकी आँखों में आंसुओं की धारायें चल पड़ेंगी और आपके दिल के हर कोने से ऐसे हिंदू जालिमों के प्रति क्रोध की ज्वाला भडक़ उठेगी जिन्होंने इन गायों को भूखी प्यासी रख कर व अत्याधिक ठंड में बिना किसी शेलटर के खुले में ही बिलख बिलख कर मरने के लिए छोड़ दिया! इन बिलखती हुई गायों की आँखों से निकले हुए एक एक आंसुओं की कसम खाते हुए इस लेखनी की अंगार भरी स्याही से एक संदेश देते हैं कि इन गायों की दुर्गति करने वालों! हे! जालिम हिंदुओं! इन बिलखती गायों की बद दुआएं एक दिन तुम्हारे जीवन को श्मशान बना देंगी! हे! जालिम हिंदुओं! तुम ये मत भूलो कि इन गायों को भूखी प्यासी मार के तुम कहीं के नहीं रहोगे! कानून के शिकंजे से तुम बच नहीं पाओगे और भगवान की लाठी की चोट जब तुम्हे लगेगी तो उस वक्त तुम भी इसी प्रकार बिलख बिलख कर बुरी मौत मरोगे!

आरएसएस हमेशा अपने आप को हिंदू धर्म की ठेकेदार मानती है और ये हमेशा नारा लगाते हैं कि गाय हमारी माता है! इस से आगे इन्हें कुछ नहीं आता! भाजपा सरकार भी इसी नारे के ठेकेदार बनी हुई है और गाय हमारी माता है व गौ वंश को बचाना है! इसी नारे पर हमेशा भाजपा राजनीति करती आई है! हिसार का मेयर व विधायक भाजपा का, सासंद भाजपा का, प्रदेश का मुख्यमंत्री भाजपा का और देश का प्रधानमंत्री भाजपा का ! सब कुछ भाजपा का और फिर भी गायों की इतनी दुर्गति हो रही है कि जिस गाय को आरएसएस व भाजपा अपनी माँ मानती है उस गाय रूपी माँ को हिसार के गौ अभ्यारण में दर्दनाक मौत के बाद ये आरएसएस के लोग सही ढंग से कफन दे कर दफना भी नहीं सके तो फिर किस बात के ये हिंदू! ये केवल नकली हिंदू है! हिसार के गौ अभ्यारण में भूख प्यास से बिलखते हुए इन गायों ने अपनी जान दे दी और मौत के बाद इन गायों को यों ही खुले में सडऩे के लिए छोड़ दिया गया! हालात इन गायों की बहुत गंभीर थी और इनको कोई भी बुनियादी सुविधायें नहीं दी गई थी! देखिये जरा! मौत के बाद इस प्रकार की दुर्गति की हालात में ये हमारी गऊ माता! इस दुर्गति की हालात में ये कोई एक गाय नहीं है बल्कि ये 500 से 700 गाय के बीच इसी प्रकार की दुर्गति की हालात में सड़ रही हैं!

आजकल भारत में गौ रक्षकों द्वारा गुंडागर्दी एक ज्वलंत सामाजिक समस्या बनी हुई है! पिछले कुछ वर्षों में गौ रक्षकों ने कई निर्दोष लोगों की हत्या कर दी! इसके बारे में जब किसान नेता चंद्रभान काजला से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ये गौ रक्षक आरएसएस के पाले हुए तथाकथित हिंदूवादी गुंडे है व सडक़ पर यदि कोई मुस्लिम अपने किसी काम से भी जा रहा हो तो भी ये तथाकथित हिंदू गुंडे हिंदू मुस्लिम के नाम पर नफरत फैलाने के लिए उस मुस्लिम के पास भूख प्यास से मरी हुई गाय का मांस ले जाकर जबरदस्ती उस से कबूल करवा के उस से गाय का मांस बरामद किया हुआ दिखा देते हैं! हरियाणा के मेवात में इस प्रकार की घटनाएं निरंतर होती रहती हैं और इन मुस्लिम लोगों पर फर्जी तौर पर पुलिस संगीन केस बना कर जेल भेज देती है! एक राह चलते व्यक्ति को ये गौ रक्षक गाय का मांस बेचने व रखने तथा गाय काटने के झूठे केसों में फंसा कर उस को हमेशा के लिए अपराधी बना देते हैं! ये कहां का न्याय हुआ और कहां का हिंदूवाद हुआ! ये जितने भी आरएसएस के द्वारा गौ रक्षक बनाये गए हैं ये सभी के सभी गाय माता के नाम पर गुंडागर्दी करते हुए अपनी हिंदूवाद की दुकानदारी चलाते हैं! चंद्रभान काजला ने आगे बताया कि इन गुंडे गौ रक्षकों पर तुरंत प्रभाव से प्रतिबंध लगाया जाये व इन 529 गायों की इस दर्दनाक मौत के लिए हिसार में बनाये गए सभी गौ रक्षकों पर अपराधिक मामले दर्ज कर के इन्हें भी सख्त से सख्त सजा दी जाये ताकि फिर दोबारा से किसी भी सडक़ चलते राहगीर के पास ये झूठे तरीके से गाय का मांस बरामद करवा के झूठे केस ना बनवा सके! दूसरी तरफ जनवादी सफाई कर्मचारी कल्याण संघ के सलाहकार राजेंद्र सरोहा ने कहा कि हिसार के गौ अभ्यारण में हुई इन 500 से 700 के बीच गायों की दर्दनाक मौत की जाँच के लिए एक उच्च स्तर की कमेटी बनाई जाये व उस कमेटी में हरियाणा पंजाब हाईकोर्ट के जज सदस्य बनाये जाये और इस सारे मामले की बहुत ही गंभीरता व गहराई से जाँच करवा के दोषियों को सख्त से सख्त सजा दी जाये!

राजेंद्र सरोहा ने कहा कि एक बहुत ही गंभीर मामला है और कुछ हिंदू मुस्लिम के नाम पर दंगे करवाने के लिए गाय मांस को बहुत बड़ी तादात में सडक़ों पर डलवाने की भी साजिश हो सकती है! इन्हीं कारणों के चलते इन तथाकथित कट्टर हिंदू संगठनों ने कुछ चमड़ा व्यापारियों से सांठगांठ कर के इन गायों को भूखी प्यासी रख के इन की हड्डियों व शरीर के अन्य अंगों को बेचने की साजिश में इनको जानबूझ करके साजिशन मारा गया है जो कि एक किस्म से गौ हत्या ही मानी जाएगी! राजेंद्र सरोहा ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में गौ हत्याओं के मामले को देखते हुए तो हिसार के विधायक व मेयर तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री का नैतिक दायित्व बनता है कि वे तुरंत इस्तीफा दे कर दोषियों को सजा दिलवायें परंतु अभी तक जो देखा जा रहा है उस के मुताबिक तो पूरी की पूरी हरियाणा सरकार ही इतने बड़े इस गौ हत्या कांड में दोषियों को पूरी तरह से बचाने में व इस पूरे मामले पर लीपापोती करने पर लगी हुई है!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *