प्यार की मुहीम जान पे भारी !

320 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 10 फरवरी। ये इश्क नहीं आसां! बस इतना समझ लीजिये कि इश्क इक आग का दरिया है और इस आग में घर के घर तबाह हो जाते हैं! ऐसा ही एक मामला प्रदेश के साइबर सिटी गुरुग्राम में शनिवार को घटित हो गया! भाजपा के किसान मोर्चे की प्रदेश महामंत्री मुनेश गोदारा की उनके पति ने ही गोली मार कर हत्या कर दी! आरोपी पति सुनील गोदारा को शक था कि उन की पत्नी मुनेश गोदारा का प्रेम प्रसंग कादीपुर निवासी भाजपा के किसान मोर्चा के जिला महामंत्री नरेश बंटी गुर्जर के साथ चल रहा है! आरोपी पति ने पहले भी अपनी पत्नी मुनेश को इस के लिए कई बार डांट फटकार लगाई थी लेकिन वो नहीं मानी तो आखिर में यह कदम पति के द्वारा उठाया गया!

भारतीय नारी जगत के लिए यह घटना एक बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण कही जा सकती है क्यों कि जब एक भारतीय नारी अपने फलते फूलते गृहस्थ जीवन के चलते पति धर्म को छोड़ कर केवल राजनैतिक मंचों के धर्म को निभाती है तो उस भारतीय नारी का यह सब से बड़ा पाप है! हमारी रामायण इस बात का उदाहरण है कि माँ सीता ने पति धर्म को निभाते हुए अपने पति राम के साथ वनागमन किया! दूसरी तरफ राम के द्वारा राजधर्म निभाते हुए माँ सीता के परित्याग का उदाहरण भी हमें देखने को मिलता है! भगवान राम और माँ सीता को अपना सर्वस्व मानने वाली राजनैतिक पार्टी भाजपा की शादीशुदा नेत्री व शादीशुदा नेता के बीच आपसी अवैध संबंध बनते हैं तो यह एक बहुत ही घिनौना पाप है और इस पाप का दंड यदि पति के द्वारा दिया गया है तो इस बात की पूर्णतया संभावना लगती है कि आरोपी पति सुनील गोदारा ने अपनी पत्नी के द्वारा मर्यादा की सभी हदें पार करने के बाद ही इस घटना को अंजाम दिया हो! इस केस की गहराई से छानबीन करते वक्त जब मुनेश गोदारा का सोशल मीडिया फेसबुक अकाउंट देखा गया तो उसके भाजपा के उच्चस्तरीय कई नेताओं के साथ फोटो मिले जिनमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व अन्य कई केंद्रीय मंत्री व सांसदों के साथ राजनैतिक मंचों पर शिरकत करते वक्त के फोटो थे!

मुनेश गोदारा की शादी सुनील गोदारा के साथ वर्ष 2001 में हुई थी! साल 2013 में वह भाजपा में शामिल हुई और कुछ ही समय में कार्यकर्ता से नेता बनने की सीढिय़ां चढ़ लीं! वह महिला मोर्चा में भी सक्रिय रहीं और बाद में किसान मोर्चा की प्रदेश महासचिव बना दिया गया! मनोहर सरकार में उन्हें पूर्व मंत्री ओ पी धनकड़ का करीबी माना जाता था! शादी के बाद से ही मुनेश और सुनील गोदारा में पिछले 18 सालों से आपसी संबंध अच्छे नहीं थे! इस दौरान कई बार तलाक तक की नौबत आ गई लेकिन परिवार के लोगों के समझाने पर मामला अस्थाई रूप से शांत हो गया! ऐसा भी मालूम हुआ है कि वर्ष 2012 में घर के आपसी झगड़ों की वजह से ही मुनेश गोदारा ने आत्महत्या की कोशिश की थी! हालांकि उस वक्त पारिवारिक मसला होने के कारण पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई गई! पति के साथ पारिवारिक कलह के कारण ही मुनेश गोदारा ने अपने मायके के परिवार के सदस्यों की सहमति से ही भाजपा की राजनीति में प्रवेश किया! जब कि मुनेश गोदारा के पति सुनील गोदारा को अपनी पत्नी मुनेश का घर से बाहर जाना व लोगों से मिलना कतई पसंद नहीं था! अपनी राजनैतिक महत्वकांक्षा को पूरा करने के स्वार्थ हेतु अपने पति धर्म व संतान धर्म को छोड़ कर भाजपा के राजनैतिक मंचों पर शिरकत करते हुए भाजपा के ही किसी नेता से अवैध संबंध बनाना हिंदू धर्म व भारतीय संस्कृति में सब से बड़ा व घोर पाप माना जाएगा और इस घोर पाप के लिए भाजपा नेत्री मुनेश गोदारा व भाजपा नेता नरेश बंटी गुर्जर दोनों ही स्पष्ट रूप से पूर्णतया दोषी हैं क्यों कि इन दोनों ने ही घोर पाप करते हुए अपने फलते फूलते गृहस्थ जीवन को बर्बाद किया और साथ में इन दोनों ने ही अपनी संतानों के जीवन पर भी हमेशा हमेशा के लिए कलंक लगाया और अपने माँ बाप के नाम को भी कलंकित किया!

गुरुग्राम के सेक्टर 10 ए थाना प्रभारी संजय कुमार के अनुसार पूरा मामला प्रेम प्रसंग का है! थाना प्रभारी संजय कुमार के अनुसार मूलरूप से चरखी दादरी के चंपापुरी गांव निवासी चंद्रभान ने बताया कि वह अपने बेटे सुनील गोदारा और पुत्रवधु मुनेश गोदारा के साथ सेक्टर 93 के स्पेज सोसायटी में आठवीं मंजिल स्थित फ्लैट नंबर ए/82 में किराये पर रहते हैं! सुनील को शक था कि मुनेश का भाजपा के ही एक नेता से प्रेम संबंध है! इस बात पर दोनों में अक्सर झगड़ा होता था!

शनिवार रात साढ़े नौ बजेदोनों के बीच इस मामले को ले कर कहासुनी हो गई! उस वक्त सुनील शराब के नशे में था! काफी देर तक बहस के बाद मुनेश खाना बनाने चली गई और वह रसोई में खाना बनाते हुए फोन पर अपनी छोटी बहन मनीषा से बात करने लगी! तभी सुनील ने अपनी सर्विस रिवॉल्वर से मुनेश की छाती और पेट में गोली मार दी! इससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई! सूचना के बाद पुलिस और फारेंसिक विशेषज्ञ की टीम मौके पर पहुंची! शव को अस्पताल पहुंचाया जहां पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया गया! सुनील गोदारा की पत्नी मुनेश झज्जर के नौगांव की रहने वाली थी! सुनील गोदारा व उनकी पत्नी मुनेश गोदारा की दो संतान है! बेटी सातवीं कक्षा में पढ़ती है जब कि बेटा दसवीं का छात्र है! वारदात के बाद से मुनेश का पति सुनील गोदारा अपनी गाड़ी ले कर फरार हो गया! सुनील धनवापुर स्थित गोदरेज कंपनी में बतौर पीएसओ काम करता है और वह सेना से सेवानिवृत है! आरोपी सुनील गोदारा के पिता चंद्रभान ने पुलिस को मामला दर्ज करवाया जिसमें आरोपी बेटे सुनील, मुनेश के प्रेमी नरेश बंटी गुर्जर और उसकी पत्नी अनु के खिलाफ सेक्टर 10 ए के थाने में आईपीसी की धारा 302, 34 व आम्र्स एक्ट की धारा 25-54 व 59 के तहत मुकदमा दर्ज करवाया! आरोपी सुनील गोदारा के पिता चंद्रभान ने पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया कि इस वारदात के लिए नरेश बंटी गुर्जर व उसकी पत्नी अनु पूर्णतया जिम्मेवार है क्यों कि आरोपी सुनील गोदारा की पत्नी मुनेश गोदारा के नरेश बंटी गुर्जर के साथ चल रहे प्रेम प्रसंग के बारे में बंटी गुर्जर की पत्नी अनु को पूरी जानकारी थी!

इस सारे मामले को गहराई से देखने के बाद लगता है कि गृहस्थ जीवन में क्लेश होने की वजह से ही सुनील गोदारा की पत्नी अपने पति धर्म से भटक कर आज की गंदी हो चुकी राजनीति की डगर पर चलते हुए भाजपा के भ्रष्ट व व्यभिचारी नेता के चंगुल में फंस कर व उस नेता से बनाये गए अपने अवैध संबंधों के कारण ही अपने गृहस्थ जीवन को तबाह करने की वजह से ही अपने पति के हाथों बेमौत मारी गई!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *