पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने धौज थाने का किया निरीक्षण

71 Views

फरीदाबाद : पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा थाने का निरीक्षण के लिए पुलिस थाना धौज पहुंचे जहां उन्होंने थाना परिसर तथा पुलिस रिकॉर्ड की चेकिंग करते हुए पुलिसकर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। पुलिस आयुक्त के साथ डीसीपी एनआईटी नीतीश कुमार अग्रवाल भी अपनी टीम के साथ मौजूद रहे।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि थाना प्रबंधक महेंद्र पाठक ने पुलिस आयुक्त को गुलदस्ता भेंट करके उनका स्वागत किया जिसके पश्चात पुलिस आयुक्त ने थाना परिसर का निरीक्षण किया जिसमें उन्होंने थाना परिसर के भवन,कार्यालय, बैरक, मालखाना, पार्क इत्यादि की चेकिंग की। थाने के एंट्री पॉइंट पर दाएं तथा बाईं तरफ बनाए गए पार्क की सुंदरता तथा पेड़ पौधों का रखरखाव करने के लिए पुलिस आयुक्त ने थाना प्रबंधक महेंद्र पाठक की प्रशंसा की। इसके पश्चात वह रिकॉर्ड चेक करने के लिए रिकॉर्ड रूम में पहुंचे जहां पर उन्होंने वर्ष 2018 में थाना खुलने से अब तक के सारे रिकॉर्ड चेक किए जो दुरुस्त पाए गए। मालखाने की चेकिंग की गई जिसमें रखा गया सामान व्यवस्थित पाया गया। पुलिस आयुक्त ने थाने के कार्यालय तथा पुलिसकर्मियों के आवास के लिए बनाई गई बैरक का भी निरीक्षण किया।

पुलिस आयुक्त ने थाना प्रबंधक को हिदायत दी कि यदि थाने में किसी भी प्रकार की मरम्मत या स्टेशनरी की आवश्यकता है तो वह खरीदकर इसका बिल जमा करवाएं। उन्होंने कहा थाने में आए पीड़ित को शिकायत दर्ज करवाने के लिए पेन पेपर थाने से उपलब्ध करवाए जाने चाहिए जिससे पीड़ितों को भी सुविधा मिलेगी। किसी ध्याड़ी मजदूरी करने वाले गरीब पीड़ित व्यक्ति को अपनी शिकायत देने के लिए कंप्यूटर सेंटर वाले के पास जाना पड़ता है जिससे उसकी जेब पर भार बढ़ता है इसलिए उन्हे शिकायत लिखने के लिए पेन पेपर थाने से उपलब्ध करवाया जाए और थाना प्रबंधक इसका बिल पुलिस आयुक्त कार्यालय से विड्रॉ करवा सकते हैं।

निरीक्षण के पश्चात पुलिस आयुक्त ने थाने के सभी पुलिसकर्मियों, सफाई कर्मचारी तथा कुक सहित पूरे स्टाफ के साथ मीटिंग की और पुलिसकर्मियों कर्मचारियों को आने वाली किसी भी प्रकार की समस्या के बारे में उनके साथ साझा करने के लिए कहा। पुलिस आयुक्त ने कहा कि कर्मचारी किसी भी प्रकार की कार्यस्थल या उनके परिवार की समस्या उनके साथ साझा कर सकते हैं, जहां तक हो सकेगा उनका हाल अवश्य किया जाएगा।

इसके पश्चात सभी अनुसंधान अधिकारियों को नशाखोरी के मामले में अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वर्ष 2022 में थाने में दर्ज किए गए शराब के 20 तथा गांजा तथा अवैध इंजेक्शन के 15 मामलों के लिए पुलिस आयुक्त ने पुलिसकर्मियों के कार्य की सराहना की। उन्होंने कहा कि शहर में नशाखोरी पर लगाम कसने के लिए उनके द्वारा अभियान चलाया गया है जिसके तहत नशा तस्करों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जानी चाहिए। इसके अलावा थाने का एरिया दिल्ली तथा गुड़गांव बॉर्डर पर स्थित है इसलिए वहां पर गौ तस्करी होती है। थाना पुलिस इनसे निपटने के लिए अच्छा कार्य कर रही है और आगे भी ऐसे ही कार्रवाई करके अपराधियों को कानून के तहत सख्त से सख्त सजा दिलवाई जाए।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.