पहली से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को घर पर ही किताबें उपलब्ध करवाई जाएंगी : जिला शिक्षा अधिकारी

104 Views

फरीदाबाद । शिक्षा विभाग हरियाणा की ओर से पहली से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को घर पर ही किताबें उपलब्ध करवाई जाएंगी। इस समय बच्चोें को ई-लर्निंग के माध्यम से पढ़ाया जा रहा है। विभाग की ओर से जिला में जून के पहले सप्ताह में पहली से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए किताबें सभी ब्लाॅक में भेजी जाएंगी, जहां पर संबंधित स्कूलों के अध्यापकों द्वारा बच्चों को घर-घर जाकर किताबें उपलब्ध करवाई जाएंगी।

जिला शिक्षा अधिकारी सतिंदर कौर वर्मा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि स्टार्ट ई-लर्नर तहत बेहतर प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को तथा शिक्षकों को शिक्षा विभाग द्वारा ई-लर्निंग गतिविधियों में अच्छा कार्य करने पर सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के कारण इस समय सभी स्कूल बंद हैं, वहीं शिक्षा विभाग की ओर से विद्यार्थियों को घर बैठे ई-लर्निंग के माध्यम से शिक्षा दी जा रही है। उन्होंने बताया कि पहली से आठवीं कक्षा तक करीब 60 हजार बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, जिन्हें ये किताबें निःशुल्क दी जाएंगी। उन्होंने बताया कि जून माह के पहले सप्ताह में ब्लॉकवाइज स्कूलों में नई किताबें प्रकाशित होकर आ रही हैं। नई किताबों को घरों तक पहुंचाने से पहले सेनेटाइज भी किया जाएगा। अध्यापक द्वारा घर के बाहर ही अभिभावकों को विद्यार्थियों को पढ़ने की किताबें पहुंचाई जाएंगी। नई किताबों से बच्चे अब आसानी से घर बैठे ही अपनी तैयारी कर सकेंगे। इसके लिए विभाग विद्यार्थियों के सब्जेक्ट अनुसार होमवर्क देगा। किताबों के साथ बच्चों को होमवर्क की लिस्ट भी दी जाएगी। इसके साथ ही विभाग द्वारा अभिभावकों व विद्यार्थियों को कोरोना के बचाव से संबंधित हिदायतों से युक्त पत्र भी भेजा जाएगा।

उन्होंने बताया कि सभी तरह की लेटेस्ट विविध एवं शैक्षणिक खबरों के लिए हरियाणा एजुकेशनल अपडेट फेसबुक पेज भी ज्वाइन कर सकते हैं। इस समय घर पर पढ़ रहे बच्चे वेस्ट मैटीरियल का प्रयोग कर अलग-अलग डिजाइन की कलाकृतियां बनाकर अध्यापकों के वाट्सएप पर भेजेंगे तथा बच्चें खेल की गतिविधियां भी जारी रखेंगे। उन्होंने बताया कि लाकडाउन के कारण स्कूल बंद होने के बाद अब स्कूल के स्टॉफ को ऑफिस का काम करने के लिए बुला लिया गया है। जिन स्कूलों में चारदीवारी नहीं है और जहां कंडम बिल्डिंग है तथा स्कूल का मार्ग खस्ताहाल है। उनका सर्वे शिक्षा अभियान के जेई द्वारा एस्टीमेट बनाकर निर्माण कार्य शुरू किए जाएंगे। इसके साथ ही अध्यापकों को बच्चों को मिड डे मील मई और जून का दूध पाउडर एक साथ वितरित करने के आदेश दिए हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *