दिल्ली ने की धराशायी मोदी की तानाशाही !

395 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 13 फरवरी। नफरत एवं घृणा तथा तानाशाही की भाजपा के द्वारा की जा रही गंदी राजनीति को दिल्ली की जनता ने पूर्णतया नकारते हुए विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल को दिल्ली की सत्ता का सिंहासन सौंप दिया है! दिल्ली विधानसभा चुनाव में लोगों ने आम आदमी पार्टी को बड़ा जनादेश तो दिया ही साथ ही उन नेताओं तथा उम्मीदवारों को भी ख़ारिज कर दिया जिन्होंने इस चुनाव के दौरान अथवा इस से पहले विवादित ब्यान दिए थे! इसी कारण भाजपा नेता कपिल मिश्रा को मॉडल टाउन से हार का सामना करना पड़ा! गोली मारो का नारा और हिंदुस्तान बनाम पाकिस्तान संबंधी बयान देने वाले कपिल मिश्रा को आम आदमी पार्टी के अखिलेशपति त्रिपाठी ने पराजित किया! संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनकारियों के खिलाफ निकाले गए मार्च में कपिल मिश्रा ने ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो……’ के नारे लगाए थे! शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन को बढ़-चढक़र चुनावी मुद्दा बनाने वाले भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा के चाचा आजाद सिंह को मुंडका की जनता ने खारिज कर दिया! आम आदमी पार्टी के धर्मपाल लाकड़ा ने उन्हें पराजित किया! भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने भाषा व शब्दों की सभी मर्यादाओं को भूला कर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ‘आंतकवादी’ बताने वाला ब्यान भी दिया था!

भाजपा के केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने जिस रिठाला विधानसभा क्षेत्र में प्रचार के दौरान ‘देश के गद्दारों को, गोली मारो……’ का नारा लगवाया था, वहां भी भाजपा उम्मीदवार मनीषा चौधरी को हार का सामना करना पड़ा! आप उम्मीदवार मोहिंद्र गोयल ने मनीषा चौधरी को हराया! सोशल मीडिया पर अक्सर विवादित पोस्ट एवं टिप्पणियां करने वाले तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को भी हरिनगर विधानसभा की जनता ने खारिज कर दिया! आम आदमी पार्टी के राजकुमार ढिल्लों ने तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को धूल चटायी! दिल्ली में केजरीवाल सरकार के पिछले पांच सालों में किये गए विकास कार्यों का जादू इस कदर चला कि आम आदमी पार्टी ने दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनाव में 62 सीटें जीत कर जबरदस्त सफलता का इतिहास दोहरा दिया! भाजपा को केवल आठ सीटें ही मिली! कांग्रेस इस बार भी खाता नहीं खोल सकी! भारी बहुमत से जीती आम आदमी पार्टी लगातार तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाएगी! दिल्ली के लोगों ने केजरीवाल के बिजली,पानी,शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में किये गये कामों और महिलाओं को मुफ़्त बस यात्रा के फैसले को भरपूर समर्थन दिया! यही वजह है कि आम आदमी पार्टी अपना जनाधार बरकरार रखने में कामयाब रही! पिछले विधानसभा चुनाव वर्ष 2015 में आम आदमी पार्टी ने 70 विधानसभा सीटों में से 67 सीटें जीत कर इतिहास रचा था! इस बार भी लगातार दूसरी बार 60 से अधिक सीटें जीत कर दिल्ली की सत्ता में आई है! इस चुनाव में आम आदमी पार्टी के दबदबे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने सात लोकसभा क्षेत्र में से चार पश्चिमी दिल्ली, नई दिल्ली, दक्षिणी दिल्ली व चांदनी चौक की सभी 40 विधानसभा सीटें जीत लीं!

आम आदमी पार्टी दिल्ली में एक बार फिर सरकार बनाने जा रही है! इस मौके पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह जीत दिल्ली के हर उस परिवार की जीत है जिस ने मुझे अपना बेटा मान कर हमें जबरदस्त समर्थन दिया! ये उस परिवारों की जीत है जिन के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिलने लगी है और जिन का दिल्ली के अस्पतालों में अच्छा इलाज होने लगा है! ये नई राजनीति है और ये देश के लिए शुभ संदेश है तथा दिल्ली में हमारे द्वारा किया गया काम जीता है! अरविंद केजरीवाल ने स्पष्ट संदेश दिया कि इस चुनाव ने काम की राजनीति को जन्म दिया है जो कि इस देश की भविष्य की राजनीति का एक नया मार्ग तय करेगा!

दिल्ली के इस चुनाव में यह भी एक अजीब इत्तफाक रहा कि भाजपा की हिंदूवाद को ले कर केजरीवाल को घेरने की रणनीति शाहीन बाग को लेकर धरी की धरी रह गई! सीएए के विरोध में शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को लेकर भाजपा के कई दिग्गजों चाहे वे प्रधानमंत्री मोदी हों या फिर गृहमंत्री अमित शाह हर किसी ने मुख्यमंत्री केजरीवाल की जबरदस्त घेरेबंदी की परंतु केजरीवाल ने शाहीन बाग को लेकर भाजपा का कोई दाव चलने नहीं दिया! चुनाव में प्रचार के लिए भाजपा की ओर से स्वयं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मोर्चा संभाला हुआ था! उनके साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, कई केंद्रीय मंत्री, छह मुख्यमंत्री अपने सहयोगी मंत्रियों के साथ और 300 सांसद अपनी पार्टी को जिताने के लिए मैदान में जुटे हुए थे! बड़े पैमाने पर नुकड्ड सभायें व रोड़ शो भाजपा के द्वारा किये गये व केजरीवाल पर जोरदार तरीके से निशाने साधे गये परंतु दिल्ली की जनता ने भाजपा की हिंदू मुस्लिमवाद की नौटंकी को पूर्णतया फेल कर दिया!

दूसरी ओर अरविंद केजरीवाल ने प्रचार के दौरान हर सभा में स्कूलों अस्पतालों,पानी बिजली के लिए किये गये काम की बात की! ‘अच्छे बीते पांच साल, दिल्ली में तो केजरीवाल’ के नारे के जरिये उन की पार्टी ने हर जगह लोगों को स्पष्ट संदेश दिया कि पिछले पांच साल में सरकार ने काफी काम किया है और यह समय दिल्ली वालों के लिए अच्छा बीता है और साथ में ही संदेश दिया कि आगे भी केजरीवाल को जितायें और एक काम करने वाली सरकार चुनें!

भाजपा नेताओं ने अरविंद केजरीवाल की इस जबरदस्त रणनीति से बौखला कर केजरीवाल को कभी आतंकवादी करार दिया तो कभी शाहीन बाग में धरने पर बैठे लोगों को देशद्रोही बताया और कहा कि इन्हें गोली मार देनी चाहिये! दिल्ली की जनता इस भडक़ाऊ राजनैतिक ब्यानबाजी से ऊब गई और इन्हीं कारणों से भाजपा अधिक सीट जीतने में नाकामयाब रही तथा आम आदमी पार्टी को एक बार फिर धमाकेदार जीत हासिल करने में सफलता मिली!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

5 Replies to “दिल्ली ने की धराशायी मोदी की तानाशाही !”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *