तनाव मुक्त शिक्षा के लिए चलें महर्षि विद्या मंदिर की ओर

192 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 28 जनवरी। गणतंत्र दिवस पर गुरुग्राम के गावं चंदू स्थित महर्षि विद्या मंदिर सीनियर सकैंडरी स्कूल में छात्रों ने बड़े सुंदर-सुंदर सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किये! मुख्य अतिथि के तौर पर गोबिंद लाल और बालमुकंद ने कार्यक्रम में शिरकत की! इस अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज का ध्वजारोहण मुख्य अतिथि बालमुकंद के द्वारा किया गया व गणतंत्र दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया गया! कार्यक्रम की शुरुआत गुरुपूजन एवं सरस्वती वंदना से हुई! समारोह का आगाज कक्षा प्रथम के बच्चों के देश भक्ति के नृत्य से हुआ! इसके बाद हरियाणवी नृत्य, देश भक्ति के नृत्य, भाषण, नाटक और योगासन सहित विभिन्न नृत्यों का रंगारंग मंचन किया गया! कक्षा पहली से ग्यारहवीं तक के बच्चों ने गणतंत्र दिवस के समारोह में बढ़ चढक़र भाग लिया! छात्रों के अभिभावकगण भी काफी संख्या में मौजूद रहे जिससे बच्चों का मनोबल बढ़ा!

मुख्य अतिथि बालमुकंद ने छात्रों को मन लगाकर पढ़ाई करने की सीख दी! स्कूल के प्रधानाचार्य प्रमोद कुमार यादव ने मुख्य अतिथि एवं विशेष अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया और प्रधानाचार्य ने इस मौके पर चेतना विज्ञान पर आधारित शिक्षा का महत्व बताया! स्कूल के मेधावी छात्रों को मुख्य अतिथि के द्वारा सम्मानित किया गया!

महर्षि विद्या मंदिर स्कूल के प्रधानाचार्य प्रमोद कुमार यादव से जब शिक्षा के स्तर के बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस स्कूल में बच्चों को तनाव मुक्त शिक्षा दी जा रही है! स्कूल में बच्चों की कक्षा प्रारंभ होने से पहले रोजाना सुबह 15 मिनट के लिए योगासन व भावातीत ध्यान तथा कक्षा समाप्त होने के बाद घर जाने से पहले बच्चों को 15 मिनट के लिए योगासन व भावातीत ध्यान करवा जाता है ताकि बच्चें तनाव मुक्त हो कर पढ़ाई कर सकें! प्रधानाचार्य प्रमोद यादव ने आगे बताया कि इस स्कूल में नर्सरी से बारहवीं तक छात्र पढ़ते हैं! स्कूल में भावातीत ध्यान के लिए दो मेडिटेशन हॉल हैं व एक कंप्यूटर लैब है जिस में प्रोजेक्टर की सुविधा भी है! साथ में ही छात्रों को योगासन करवाने के लिए भी पूरी सुविधा है! उन्होंने बताया कि हम बच्चों को तनाव मुक्त शिक्षा देकर बच्चों के स्वास्थ्य पर पूरा-पूरा ध्यान देते हैं! बच्चों के व्यवहार प्रबंधन व संस्कार शिक्षा के बारे में बात होने पर संकेत दिया गया कि भविष्य में बच्चों को संस्कारवान बनाने व व्यवहार कुशल बनाने की और भी कार्य किया जायेगा!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *