जिला जेल फरीदाबाद में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को बड़ी धुमधाम से मनाया

65 Views

फरीदाबाद : जेल अधीक्षक जय किशन छिल्लर ने कहा कि सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार आजादी के अमृत महोत्सव की श्रंखला में जिला जेल फरीदाबाद में आज 21 जून 2022 को प्रातः अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को बड़ी धुमधाम से मनाया गया। जेल में लगभग 2500 पुरूष बन्दियों को जेल के बड़े मैदान में वैदिक वेलनेस फांउण्डेषन दिल्ली के संस्थापक योग ऋषि आर्चाय आषुतोष महाराज द्वारा योग एवंम प्राणायाम का अभ्यास करवाया गया। इसी प्रकार महिला वार्ड में योग शिक्षिका संध्या शर्मा के द्वारा योग एवं प्राणायाम का अभ्यास करवाया गया। महिला वार्ड में अलग से सभी महिला बंदियों के लिए योग करवाने की व्यवस्था की गई थी।

जेल में आठवें अंतर्राष्ट्रीय योगा दिवस पर मुख्य अतिथि प्रसिद्ध समाजसेवी देवेंद्र गांधी थे। सबसे पहले जेल अधीक्षक जयकिशन छिल्लर द्वारा मुख्य अतिथि देवेन्द्र गांधी तथा योग ऋषि आर्चाय आशुतोष महाराज तथा योग शिक्षिका संध्या शर्मा का स्वागत किया गया।

जेल में आठवें अन्तर्राष्ट्रीय योगा दिवस पर योगाभ्यास का आरम्भ एक भजन के माध्यम से किया गया। योग ऋषि आर्चाय आषुतोष महाराज द्वारा बन्दियों को कुछ खड़े होकर किए जाने वाले आसन ग्रीवा चालन, स्केंद्व संचालन, ताड़ासन, त्रिकोण आसन, वृक्षासन तथा बैठकर किए जाने वाले आसन व्रजासन, शक्कासन, मण्डूकासन तथा पेट के बल लेटकर किए जाने वाले आसन भूजंगआसन, सलभ आसन, नौकासन, तथा पीठ के बल लेटकर किए जाने वाले आसन सर्वागं आसन, हलासन, सेतु बंध आसन, पवनमुक्तासन करवाए गए। इसके अलावा भस्त्रिका व अनुलोम विलोम, भ्रामरी तथा उदगीर प्राणायाम भी करवाया गया।

जेल में सभी बन्दियों ने अनुशासन में रहते हुए साथ साथ योगा एवं प्राणायाम का अभ्यास किया। बन्दियों के अनुशासन व एक साथ किए गए योग को देखकर मुख्य अतिथि देवेंद्र गांधी ने कहा कि ऐसा लगता है जैसे जेल को आश्रम में तब्दील कर दिया गया है। ऐसा अनुशासन उन्होंने किसी स्कूल या कॉलेज में भी नहीं देखा। केवल फौज में ही देखा जा सकता है।

बन्दियों के द्वारा जिओ गीता के आधारित कुछ भजन भी प्रस्तुत किए गए जिनमें ‘‘हे योगेश्वर हे परमेश्वर’’ तथा ‘‘आओ गीता को अपनाए’’। जेल के सभी बन्दियों ने भजन को एक साथ ताली बजाकर गाया। ऐसी अद्भुत प्रस्तुती को देखकर सभी मेहमानों द्वारा सराहना की गई। जेल अधीक्षक जयकिशन छिल्लर जो स्वयं भी राज्य के श्रेष्ठ योगी का खिताब प्राप्त कर चुके हैं तथा राष्ट्रीय स्तर पर ब्रांज मेडल प्राप्त कर चुके हैं। उन्होंने अपने संबोधन में बताया कि सभी बन्दियों को जेल के प्रशिक्षित बन्दियों के द्वारा लगातार जेल में योग का अभ्यास करवाया जाता है। जिसके परिणाम आज सबके सामने हैं। आज यह जेल योग युक्त जेल, अपराध मुक्त जेल बन चुकी है। लगातार योगा करने से बंदियों को स्वास्थ्य लाभ के साथ-साथ मानसिक लाभ भी मिल रहा है। योग करने से शरीर के सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है तथा यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन योगाभ्यास करता है तो भी वह अपने शरीर को निरोग रख सकता है। योग करने से न केवल शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता है बल्कि योग से शरीर को रोगमुक्त व मानसिक व बौद्धिक स्तर पर भी सशक्त, शांत और ओजस्वी बनाया जा सकता है। उनके द्वारा जेल स्टाफ व बन्दियों को प्रतिदिन नियमित रूप से योग करने के लिये प्रेरित किया गया।

योगाभ्यास करने पश्चात जेल के बन्दियों द्वारा भक्तिमय गीत सुनाए गए जिसे योगीराज आशुतोष महाराज वैदिक वेलनेस फाउंडेशन दिल्ली तथा मुख्य अतिथि देवेन्द्र गांधी प्रसिद्व समाजसेवी फरीदाबाद द्वारा सराहना की गई। कार्यक्रम के समापन अवसर जयकिशन छिल्लर अधीक्षक जेल द्वारा योगीराज आशुतोष महाराज वैदिक वेलनेस फाउंडेशन दिल्ली तथा मुख्य अतिथि देवेन्द्र गांधी प्रसिद्व समाजसेवी फरीदाबाद, संध्या शर्मा तथा जीत कुमार रावत एडवोकेट को जेल के बन्दियों द्वारा बनाई गई मनमोहक पेंटिंग भेंट की गई।

इस अवसर पर इण्डिया विजन फांउण्डेशन से गोविन्द शर्मा, उषा तथा जेल प्रशासन के उप-अधीक्षक रामचन्द्र, अनिल कुमार, रोहण हुड़डा व जेल स्टाफ के अन्य अधिकारी व कर्मचारी और सभी बन्दी मौजूद रहे।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.