गुरुग्राम के जैन मंदिर के पास बनी कूड़ा-कर्कट की मंडी !

588 Views

गुरुग्राम (मदन लाहौरिया) 8 अक्टूबर। बड़ी हैरत की बात है कि गुरुग्राम में धार्मिक स्थलों के पास ही कूड़े-कर्कट और गंदगी के पहाड़ जैसे ढ़ेर लगे रहते हैं और उन संस्थाओं के संचालकों की आँख तक नहीं खुलती। वे यह भी नहीं सोचते कि कोई भी धर्म स्थल पूजा के लिए शुद्ध व पवित्र तभी माना जाता है जब उसके आस पास कोई भी गंदगी ना हो! परंतु गुरुग्राम में तो शहर के बीचोंबीच स्थित सदर बाजार के पास जैन मंदिर से लगती हुई गली व सडक़ पर कूड़े कर्कट व गंदगी की एक प्रकार से मंडी ही लगती है क्यों कि खास सूत्रों से खबर है कि आस पास के मौहल्लों से कूड़ा कर्कट इकठ्ठा करने वाले ठेकेदार यहीं पर सारा कूड़ा लाकर डालते हैं!

जैन मंदिर के आस पास का सारा इलाका भीड़ भाड़ वाले बाजार का है! इस इलाके में कई जैन संस्थायें है और बड़े-बड़े व्यापारिक शोरूम है! ग्राहक जब यहां खरीददारी के लिए आता है और ये कूड़े कर्कट व गंदगी के ढ़ेर देखता है तो ग्राहक का मन भी इन दुकानों से खरीददारी करने से हट जाता है! जैन मंदिर के पास इन कूड़े कर्कट के ढेरों की वजह से यहां के दुकानदारों का जीवन नरकमय हो गया है और उनकी बिक्री इन गंदगी के ढ़ेरों की वजह से काफी कम हो गई है!

इस बारे में जब यहां के दुकानदारों से बात की गई तो उनमें प्रशासन के प्रति काफी रोष था! यहां के लोगों ने बताया कि पिछले काफी समय से इस बाजार में जैन मंदिर के पास ही कूड़ा कर्कट के ढ़ेर लगाए जाते हैं और जैन मंदिर के संचालक भी चुप्पी साधे हुए है! कुछ लोगों का कहना था कि पिछले कई दिनों से विधानसभा चुनाव के चक्कर में गुरुग्राम में कूड़े कर्कट व गंदगी पर ही राजनीति चल रही! एक हैरानी की बात और है कि पिछले दिनों इसी जैन बारादरी में राजनैतिक तौर पर एक संभावित राजनैतिक उम्मीदवार का कार्यक्रम आयोजित किया गया था परंतु जैन समाज के द्वारा यहां के सभी दुकानदारों को साथ लेकर इस कूड़ा कर्कट व गंदगी की मंडी को हटवाने का कभी कोई प्रयास नहीं किया! इन सभी कारणों से लोगों को शक है कि गुरुग्राम में गंदगी का धंधा करने के मुनाफे में कहीं पर इन्हीं कथित समाजसेवियों का हाथ तो नहीं है!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

7 Replies to “गुरुग्राम के जैन मंदिर के पास बनी कूड़ा-कर्कट की मंडी !”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *