अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त 12 आरोपियो की सम्पति पर वर्ष 2022 में चला पीली पंजा

35 Views

– नशा तस्करी कर कमाएं गए धन से अर्जित की गई संपति करीब 2.75 एकड़ पर बनी प्रॉपर्टी को किया ध्वस्त

  • आरोपियों के कब्जे से 9 मकान, 15 कमरे, 26 दुकान, 3 गोदाम, 1 ऑफिस और एक झुग्गी को किया ध्वस्त
  • आरोपियो ने पंचायती, एमसीएफ,डीटीपी, सीपीडब्लू और हुड्डा की जमीन पर कर रखा था कब्जा

फरीदाबाद : सरकार द्वारा नशा तस्करी और अपराधिक गतिविधियों में शामिल अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने के दिए गए निर्देश पर जिला प्रशासन और फरीदाबाद पुलिस ने नशा तस्करी करने वाले 12 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की है। वर्ष 2022 में अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त व्यक्तियों से 850 गज और 2.5 एकड़ जमीन का कब्जा छुडाया गया है। जिसमें अवैध रुप से बनाए गए मकान, दूकान, ऑफिस और गोदाम शामिल है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि अवैध रुप से जमीन पर कब्जा करने वालों में बिजेन्द्र उर्फ लाला,कैन्हीया उर्फ कमल, पूजा, मीना, अंगूरी देवी, सत्यदेव, माम्मो, जावेद, नीरज, अशमा उर्फ अफसाना,सवाना का नाम शामिल है। सितम्बर माह में नशा तस्कर बिजेंद्र उर्फ लाला पुत्र जॉनी द्वारा नशा व शराब तस्करी करके केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की भूमि पर अवैध कब्जा करके बनाए गए गई इमारतों 25 इमारतों को ध्वस्त किया है जिसमे 18 दुकानें, 3 मकान, 3 गोदाम व 1 ऑफिस शामिल है। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की करीब ढ़ाई एकड़ जमीन पर कई जगह अवैध कब्जे किए हुए थे जिसे कब्जा मुक्त करवाकर सीपीडब्ल्यूडी के हवाले किया गया।

आरोपी लाला और उसके परिवार के अपराधों को लिस्ट बहुत लंबी, हत्या, हत्या का प्रयास, एनडीपीएस, लड़ाई झगड़ा व अवैध शराब के 32 मुकदमे दर्ज हैं जिसमे 21 मुकदमे लाला के खिलाफ, 7 उसके भाई कन्हैया, 3 लाला की साली तथा 1 मकदमा लाला की मां के खिलाफ दर्ज है। सितम्बर माह में ही पुलिस चौकी सेक्टर 11 एरिया की कृष्णा कॉलोनी में महिला अपराधी माया व उनके दो बेटों अरुण व तरुण द्वारा अवैध शराब, जुआ, लडाई झगडे व नशा तस्करी से करके अवैध रूप से कमाई गई संपत्ति को ध्वस्त किया गया है। महिला अपराधी माया के खिलाफ अवैध शराब व एनडीपीएस के 12, अपराधी अरुण के खिलाफ जुआ, अवैध शराब व एनडीपीएस के 14 तथा तरुण के खिलाफ लड़ाई झगड़ा, एनडीपीएस व अवैध शराब के 4 मुकदमे दर्ज हैं। महिला ने हुड्डा की 500 गज जमीन पर अवैध कब्जा करके झुग्गियां रखी थी। सेक्टर 31 एरिया राजीव नगर में आसमा खातून ने गांजा तस्करी करती थी, और हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की जगह पर अवैध बिल्डिंग का निर्माण किया हुआ था जिसमे दो मकान थे। एक मकान में 1 दुकान तथा पीछे 2 कमरे थे। महिला व उसकी 2 बेटियां अफसाना और शबाना मकान में नशे का अवैध व्यापार करती थी। महिला और उसके परिवार के खिलाफ अवैध नशा तस्करी के 11 मुकदमे दर्ज है जिसमें 7 मुकदमे आसमा खातून तथा 2-2 मुकदमे उसकी दो बेटियों के खिलाफ दर्ज हैं।

हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण द्वारा आसमा खातून को सितंबर और अक्टूबर माह में कब्जा खाली करने का नोटिस दिया गया था। जिसके पश्चात आज आरोपित महिला द्वारा बनाई गई इन दुकानों को भी फरीदाबाद पुलिस तथा जिला प्रशासन की टीमों ने मिलकर ध्वस्त कर दिया गया है। महिला अंगूरी देवी ने बल्लभगढ़ की नव्वलु कॉलोनी में नशा तस्करी करके एमसीएफ की जमीन पर अवैध रुप से कब्जा कर रखा था। अंगूरी देवी पत्नी देवेंद्र सिंह फरीदाबाद की सुभाष कॉलोनी में रहती है। महिला पिछले 16 वर्षों से अवैध नशा तस्करी करती है और उसके खिलाफ फरीदाबाद में नशा तस्करी के 8 मुकदमे दर्ज हैं। नशा तस्कर सत्यदेव बल्लभगढ़ के तिगांव के भैंसरावली रोड पर नशा तस्करी करके अर्जित की गई संपत्ति से बनाए गए 2 मंजिल मकान हुड्डा की मकान पर कब्जा किया था। सत्यदेव के खिलाफ अवैध नशे,चोरी व लडाई झगडे के 17 मुकदमे दर्ज हैं जिसमे 4 मुकदमे शराब तस्करी, 4 मुकदमे गांजा तस्करी, 2 चोरी, 3 पी.ओ. और 2 लडाई झगडे, 1 छेडछाड, 1 अश्लील अरकत का शामिल है। गैंगस्टर मनोज मांगरिया के गुर्गे जावेद द्वारा अवैध रुप से नगर निगम जमीन पर अवैध रुप से कब्जा करके बनाई गई दुकानों, मकान और गोदाम को पीले पंजा द्वारा गोदाम,मकान सहित 7 दुकाने ध्वस्त की है।

आरोपी के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, अवैध हथियार व गैंग बनाकर हथियारो से लैस होकर मारपीट इत्यादी के 17 मुकदमें दर्ज है। गैगस्टर मनोज मांगरिया पर 5 लाख का ईनाम था।कलंदर कॉलोनी में एमसीएफ की जमीन पर अवैध कब्जा करके बनाए गए मकान को किया ध्वस्त, उसकी अवैध झुग्गियां भी तोड़ी गई। महिला के खिलाफ नशा तस्करी के 11 मुकदमे दर्ज हैं जिसमे 8 मुकदमे मम्मो, 2 मुकदमे उसके बेटे सलमान तथा 1 मुकदमा बेटी शायना का शामिल है। कौशल गैंग के गुर्गे नीरज फरीदपुरिया द्वारा गांव में पूजास्थल की 350 गज जमीन पर अवैध रुप से कब्जा कर रखा था। आरोपी पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, डकैती, अवैध कब्जा, अवैध वसूली, अवैध हथियार रखना इत्यादी 21 मुकदमों में शामिल है। आऱोपी पर 25000/-रु का इनाम बदमाश है।

Spread the love