अग्निपथ विवाद : पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने सभी डीसीपी एसीपी थाना व चौकी प्रभारियों को अलर्ट रहने के दिए निर्देश

93 Views
  • फरीदाबाद पुलिस हर परिस्थितियों से निबटने में पूरी तरह से सक्षम, किसी को भी कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी।
  • विरोध के नाम पर कुछ असामाजिक तत्व सरकारी या प्राइवेट संपत्ति को नुकसान कर देते है ऐशे असामाजिक तत्वो के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
  • ताजा घटनाक्रम के संबंध में सभी एसीपी थाना प्रबंधक चौकी प्रभारी व क्राइम ब्रांच अपने फोटोग्राफर वीडियोग्राफर सहित अलर्ट रहेगी।

फरीदाबाद : भारत सरकार द्वारा सेना भर्ती के लिए चलाए गए अग्नीपथ अभियान के संबंध में विभिन्न स्थानों पर हो रहे वाद विवाद तथा विरोध को देखते हुए पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा ने फरीदाबाद के सभी पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को अलर्ट रहने के दिशा निर्देश दिए हैं।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि पुलिस आयुक्त द्वारा दिए गए निर्देश में उन्होंने कहा कि रिर्जव पुलिस फोर्स को फील्ड में रखा जाए, कोई भी व्यक्ति कानून व्यवस्था के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश ना करें। थाना व चौकी प्रभारी अपने एरिया में लगातार पुलिस पेट्रोलिंग करते रहें। अपने फायदे के लिए कुछ उपद्रवी प्रकार के लोग दूसरे नागरिकों को भड़काने के लिए भड़काऊ बयानबाजी करते हैं जिसकी वजह से एक आम आदमी भी उनके प्रभाव में आकर हुड़दंगबाजी करने पर उतारू हो जाता है जिससे हिंसा की भावना को बढ़ावा मिलता है और हिंसा भड़क जाती है जिसमें कई बार कुछ लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ जाता है तथा इसके साथ ही सरकारी संपत्ति को भी नुकसान पहुंचता है।

पुलिस आयुक्त ने कहा कि कोई भी व्यक्ति कानून तोड़ने की कोशिश ना करे इसके लिए सभी पुलिस अधिकारी अपने एरिया में कानून व्यवस्था बनाए रखना सुनिश्चित करें। सीसीटीवी कैमरे फरीदाबाद पुलिस की आंख और कान जिनके द्वारा पूरे शहर में निगरानी रखी जा सकती है। पुलिस आयुक्त ने नागरिकों से भी अपील की है कि वह शांति व्यवस्था बनाए रखें और किसी भी प्रकार के भड़काऊ भाषण या बयानबाजी में ना आए। यदि कोई व्यक्ति कानून व्यवस्था में विघ्न डालेगा या सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेगा तो उसे बक्शा नहीं जाएगा और उसके खिलाफ कानून के तहत सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.